Halaman

    Social Items

Swachata Essay In Hindi Pdf, Swachata Ka Mahatva Par Nibandh 400 Shabd, Swachata Ke Upar Nibandh 400/ 500 Words, Swachata Par Nibandh Hindi Mein 400 Shabd, Swachhata Per Nibandh 400/ 500 Words,
Swachata Ke Upar Nibandh | Swachata Par Nibandh 400 Shabd ka- स्वच्छता पर निबंध 500 शब्दों में
Swachata Ke Upar Nibandh | Swachata Par Nibandh 400 Shabd ka- स्वच्छता पर निबंध 500 शब्दों में: स्वच्छता पर निबंध 400 और 500 शब्दों में यहां पर दिया गया है इस निबंध को संपूर्ण पढ़ें और पढ़ने के बाद आप इसे अपने हिसाब से अपने शब्दों में लिखें यहां से नकल करने की कोशिश ना करें। 

आप सभी विद्यार्थियों को मेरा नमस्कार🙏

आपके लिए लेकर आये हैं 'स्वच्छता पर निबंध 400 शब्दों में' (Swachata Par Nibandh 500 Shabd ka)

नोट: स्वच्छता पर निबंध 400 शब्द में को आप स्वच्छता पर निबंध 500 शब्द में में भी उपयोग में ला सकते हैं। क्योंकि यहाँ निचे दिया गया Swachhata Per Nibandh 400 Shabd में 400 से अधिक शब्दों का प्रयोग किया गया हैं। (Swachata Par Nibandh In Hindi 500 Words)
  • स्वच्छता पर निबंध 400/ 500 शब्दों में
  • Swachata Ka Mahatva Par Nibandh 400 Shabd
  • Swachata Par Nibandh Hindi Mein 400 Shabd
  • Swachata Essay In Hindi Pdf
  • Swachhata Per Nibandh 500 Words
  • Swachata Ke Upar Nibandh 500 Words

Swachata Ke Upar Nibandh | Swachata Par Nibandh 400/ 500 shabd ka- स्वच्छता पर निबंध 400 शब्दों में


प्रस्तावना:

धरती पर जीवन यापन करने वाले प्रत्येक व्यक्ति के लिए स्वच्छता बहुत जरूरी है। इसलिए इसका सदैव पालन करना चाहिए। चाहे हम किसी भी क्षेत्र में रहते हो।

स्वच्छता मनुष्य को एक अच्छा इंसान बनाती है। क्योंकि स्वच्छता से बहुत सारी बीमारियां मनुष्य के नजदीक नहीं आ पाती हैं। इसलिए हमें सदैव स्वच्छता का प्रचार-प्रसार करना चाहिए।

स्वच्छता का महत्व:

जितनी जल्दी हो सके हमें स्वच्छता के महत्व को समझ जाना चाहिए और इसे अपने जीवन से जोड़ लेना चाहिए। प्रत्येक मनुष्य रोजमर्रा के बहुत सारे कार्य करता है। अगर वह उन कार्य के अंदर स्वच्छता को जोड़ देगा तो बहुत सारी बीमारियां उसके नजदीक नहीं आएंगी।
जैसे कि
बड़े नाखूनों को काटना।
प्रतिदिन दातों की सफाई करना।
हाथ को अच्छे तरीके से साबुन से धोना।
नाक, कान आदि की सफाई रखना। और
खाद्य सामग्री की सफाई भी बहुत जरूरी होती है।
स्वच्छ भोजन बनाना चाहिए।
भोजन को स्वच्छ बर्तन में बर्तन में परोसना चाहिए।
पीने के पानी के बर्तन में पानी समय-समय पर बदलते रहना चाहिए ज्यादा दिन तक पड़ा पानी नहीं पीना चाहिए।

स्वच्छता से होने वाले फायदे:

स्वच्छता से अनेकों फायदे होते हैं। इसमें सबसे बड़ा फायदा मनुष्य हमेशा तंदुरुस्त और खुश रहता है इसलिए स्वच्छता हमारे लिए बहुत जरूरी है।

अगर हम स्वच्छता नहीं रखेंगे तो बहुत सारी बीमारियां हमें अपने जाल में फंसा लेंगी जिसकी वजह से हमारी बहुत सारे पैसे खर्च होंगे तथा हमारी उम्र भी घट जाएगी।

यदि प्रत्येक मनुष्य स्वच्छता के प्रति दयालु हो जाता है। तो वह दिन दूर नहीं जब देश स्वच्छता के साथ-साथ प्रगति के रास्ते पर तेजी से आगे बढ़ेगा।

स्वच्छता संबंधी अभियान:

भारत सरकार द्वारा बहुत सारे अभियान चलाये गए हैं। ताकि प्रत्येक मनुष्य को स्वच्छता के गुणों का पता चले
'स्वच्छ भारत अभियान' इस अभियान की शुरुआत 2 अक्टूबर 2014 को महात्मा गांधी जी जयंती के मौके पर
शुरू किया गया।

इस अभियान को केवल सरकार के भरोसे पर नहीं चलाया जा सकता इसलिए सभी को बढ़-चढ़कर इस अभियान का हिस्सा बनना चाहिए।

इस अभियान के तहत सरकार द्वारा ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों को स्वच्छ रखने पर पूरा बल दिया गया है।
और इस अभियान का प्रचार प्रसार करने के लिए विद्यालयों तथा कॉलेजों के साथ साथ समाचार पत्रों में भी इसका प्रचार प्रसार किया गया है।

निष्कर्ष:

स्वच्छता से हम एक लंबा जीवन यापन कर पाएंगे तथा स्वच्छता एक अच्छी आदत बनाने से मनुष्य अपने आसपास के वातावरण को साफ सुथरा रखता है जिससे उसको खुशी मिलती है। तथा वातावरण स्वच्छ रहे गए तो हमारे आस पास कोई भी बीमारी नहीं फैले गई |

हमें छोटे बच्चों को बचपन से ही स्वच्छता संबंधित आदत डाल देनी चाहिए। ताकि वह भी अपने जीवन में स्वच्छता का आनंद ले पाएं।

जो देश व्यक्तिगत रूप से स्वस्थ होता है। उस देश को आगे बढ़ने से कोई भी नहीं रोक सकता।
इसलिए हमें एक जिम्मेदार नागरिक। बनकर अपने देश के विकास में योगदान देना चाहिए।

'स्वच्छता अपनाएं और देश को आगे बढ़ाएं।'

आशा करते हैं हमारे द्वारा प्रस्तुत किया गया स्वच्छता पर निबंध आपके मन को भाया होगा।

अगर आपको स्वच्छता पर निबंध 400 शब्द का अच्छा लगा तो इसे अपने अन्य दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें और हमें नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं कि Swachata Par Nibandh 500 Shabd आपको कैसा लगा ?
Swachata Ke Upar Nibandh | Swachata Par Nibandh 400 Shabd ka- स्वच्छता पर निबंध 500 शब्दों में
Swachata Ke Upar Nibandh | Swachata Par Nibandh 400 Shabd ka- स्वच्छता पर निबंध 500 शब्दों में
हमें आपकी टिप्पणी का इंतजार रहेगा। 😊

हम फिर मिलेंगे स्वच्छता पर निबंध के अगले आर्टिकल में जिसमें हम आपके लिए अलग-अलग शब्द सीमा के निबंध लेकर आएंगे।

चलिए, बहुत जल्द मुलाकात होगी हैं।

अलविदा।


😊आओ अन्य निबंध पढ़ें -:
💁Read: Swachata Par Nibandh 80 Shabd Ka

Swachata Ke Upar Nibandh | Swachata Par Nibandh 400 Shabd ka- स्वच्छता पर निबंध 500 शब्दों में

Swachata Essay In Hindi Pdf, Swachata Ka Mahatva Par Nibandh 400 Shabd, Swachata Ke Upar Nibandh 400/ 500 Words, Swachata Par Nibandh Hindi Mein 400 Shabd, Swachhata Per Nibandh 400/ 500 Words,
Swachata Ke Upar Nibandh | Swachata Par Nibandh 400 Shabd ka- स्वच्छता पर निबंध 500 शब्दों में
Swachata Ke Upar Nibandh | Swachata Par Nibandh 400 Shabd ka- स्वच्छता पर निबंध 500 शब्दों में: स्वच्छता पर निबंध 400 और 500 शब्दों में यहां पर दिया गया है इस निबंध को संपूर्ण पढ़ें और पढ़ने के बाद आप इसे अपने हिसाब से अपने शब्दों में लिखें यहां से नकल करने की कोशिश ना करें। 

आप सभी विद्यार्थियों को मेरा नमस्कार🙏

आपके लिए लेकर आये हैं 'स्वच्छता पर निबंध 400 शब्दों में' (Swachata Par Nibandh 500 Shabd ka)

नोट: स्वच्छता पर निबंध 400 शब्द में को आप स्वच्छता पर निबंध 500 शब्द में में भी उपयोग में ला सकते हैं। क्योंकि यहाँ निचे दिया गया Swachhata Per Nibandh 400 Shabd में 400 से अधिक शब्दों का प्रयोग किया गया हैं। (Swachata Par Nibandh In Hindi 500 Words)
  • स्वच्छता पर निबंध 400/ 500 शब्दों में
  • Swachata Ka Mahatva Par Nibandh 400 Shabd
  • Swachata Par Nibandh Hindi Mein 400 Shabd
  • Swachata Essay In Hindi Pdf
  • Swachhata Per Nibandh 500 Words
  • Swachata Ke Upar Nibandh 500 Words

Swachata Ke Upar Nibandh | Swachata Par Nibandh 400/ 500 shabd ka- स्वच्छता पर निबंध 400 शब्दों में


प्रस्तावना:

धरती पर जीवन यापन करने वाले प्रत्येक व्यक्ति के लिए स्वच्छता बहुत जरूरी है। इसलिए इसका सदैव पालन करना चाहिए। चाहे हम किसी भी क्षेत्र में रहते हो।

स्वच्छता मनुष्य को एक अच्छा इंसान बनाती है। क्योंकि स्वच्छता से बहुत सारी बीमारियां मनुष्य के नजदीक नहीं आ पाती हैं। इसलिए हमें सदैव स्वच्छता का प्रचार-प्रसार करना चाहिए।

स्वच्छता का महत्व:

जितनी जल्दी हो सके हमें स्वच्छता के महत्व को समझ जाना चाहिए और इसे अपने जीवन से जोड़ लेना चाहिए। प्रत्येक मनुष्य रोजमर्रा के बहुत सारे कार्य करता है। अगर वह उन कार्य के अंदर स्वच्छता को जोड़ देगा तो बहुत सारी बीमारियां उसके नजदीक नहीं आएंगी।
जैसे कि
बड़े नाखूनों को काटना।
प्रतिदिन दातों की सफाई करना।
हाथ को अच्छे तरीके से साबुन से धोना।
नाक, कान आदि की सफाई रखना। और
खाद्य सामग्री की सफाई भी बहुत जरूरी होती है।
स्वच्छ भोजन बनाना चाहिए।
भोजन को स्वच्छ बर्तन में बर्तन में परोसना चाहिए।
पीने के पानी के बर्तन में पानी समय-समय पर बदलते रहना चाहिए ज्यादा दिन तक पड़ा पानी नहीं पीना चाहिए।

स्वच्छता से होने वाले फायदे:

स्वच्छता से अनेकों फायदे होते हैं। इसमें सबसे बड़ा फायदा मनुष्य हमेशा तंदुरुस्त और खुश रहता है इसलिए स्वच्छता हमारे लिए बहुत जरूरी है।

अगर हम स्वच्छता नहीं रखेंगे तो बहुत सारी बीमारियां हमें अपने जाल में फंसा लेंगी जिसकी वजह से हमारी बहुत सारे पैसे खर्च होंगे तथा हमारी उम्र भी घट जाएगी।

यदि प्रत्येक मनुष्य स्वच्छता के प्रति दयालु हो जाता है। तो वह दिन दूर नहीं जब देश स्वच्छता के साथ-साथ प्रगति के रास्ते पर तेजी से आगे बढ़ेगा।

स्वच्छता संबंधी अभियान:

भारत सरकार द्वारा बहुत सारे अभियान चलाये गए हैं। ताकि प्रत्येक मनुष्य को स्वच्छता के गुणों का पता चले
'स्वच्छ भारत अभियान' इस अभियान की शुरुआत 2 अक्टूबर 2014 को महात्मा गांधी जी जयंती के मौके पर
शुरू किया गया।

इस अभियान को केवल सरकार के भरोसे पर नहीं चलाया जा सकता इसलिए सभी को बढ़-चढ़कर इस अभियान का हिस्सा बनना चाहिए।

इस अभियान के तहत सरकार द्वारा ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों को स्वच्छ रखने पर पूरा बल दिया गया है।
और इस अभियान का प्रचार प्रसार करने के लिए विद्यालयों तथा कॉलेजों के साथ साथ समाचार पत्रों में भी इसका प्रचार प्रसार किया गया है।

निष्कर्ष:

स्वच्छता से हम एक लंबा जीवन यापन कर पाएंगे तथा स्वच्छता एक अच्छी आदत बनाने से मनुष्य अपने आसपास के वातावरण को साफ सुथरा रखता है जिससे उसको खुशी मिलती है। तथा वातावरण स्वच्छ रहे गए तो हमारे आस पास कोई भी बीमारी नहीं फैले गई |

हमें छोटे बच्चों को बचपन से ही स्वच्छता संबंधित आदत डाल देनी चाहिए। ताकि वह भी अपने जीवन में स्वच्छता का आनंद ले पाएं।

जो देश व्यक्तिगत रूप से स्वस्थ होता है। उस देश को आगे बढ़ने से कोई भी नहीं रोक सकता।
इसलिए हमें एक जिम्मेदार नागरिक। बनकर अपने देश के विकास में योगदान देना चाहिए।

'स्वच्छता अपनाएं और देश को आगे बढ़ाएं।'

आशा करते हैं हमारे द्वारा प्रस्तुत किया गया स्वच्छता पर निबंध आपके मन को भाया होगा।

अगर आपको स्वच्छता पर निबंध 400 शब्द का अच्छा लगा तो इसे अपने अन्य दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें और हमें नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं कि Swachata Par Nibandh 500 Shabd आपको कैसा लगा ?
Swachata Ke Upar Nibandh | Swachata Par Nibandh 400 Shabd ka- स्वच्छता पर निबंध 500 शब्दों में
Swachata Ke Upar Nibandh | Swachata Par Nibandh 400 Shabd ka- स्वच्छता पर निबंध 500 शब्दों में
हमें आपकी टिप्पणी का इंतजार रहेगा। 😊

हम फिर मिलेंगे स्वच्छता पर निबंध के अगले आर्टिकल में जिसमें हम आपके लिए अलग-अलग शब्द सीमा के निबंध लेकर आएंगे।

चलिए, बहुत जल्द मुलाकात होगी हैं।

अलविदा।


😊आओ अन्य निबंध पढ़ें -:
💁Read: Swachata Par Nibandh 80 Shabd Ka

1 comment: