Skip to main content

Swachata Par Nibandh 300 Shabd Ka- स्वच्छता पर निबंध 300 शब्दों में

300 Shabd Ka Swachata Par Nibandh, Swachata Par Nibandh 300 Shabd Ka, SwachataParNibandh, स्वच्छता पर निबंध 300 शब्दों में,
Swachata Par Nibandh 300 Shabd Ka- स्वच्छता पर निबंध 300 शब्दों में 
Swachata Par Nibandh 300 Shabd Ka- स्वच्छता पर निबंध 300 शब्दों में: अगर आप विद्यालय में पढ़ते हैं, मेरा मतलब है कि अगर आप एक विद्यार्थी हैं तो आपको स्वच्छता का मतलब अच्छी तरह से पता ही होगा। आइए स्वच्छता पर थोड़ा सा और गौर करें

आप सभी विद्यार्थियों को मेरा नमस्कार🙏

Swachata Par Nibandh 300 Shabd Ka आज आपके सामने प्रस्तुत किया जा रहा हैं। आपसे गुजारिश हैं की आप इस 'स्वच्छता पर निबंध 300 शब्दों में' को अच्छे से पढ़ें।

आइये 300 Shabd Ka Swachata Par Nibandh पढ़ना शुरू करते हैं।

Swachata Par Nibandh 300 Shabd Ka- स्वच्छता पर निबंध 300 शब्दों में  


अच्छे स्वास्थ्य और अच्छे जीवन के लिए हमें स्वच्छता नामक एक अच्छी आदत को अपने जीवन के साथ जोड़ना चाहिए।

स्वच्छता को कोई काम नहीं समझना चाहिए और ना ही इस काम को पैसे कमाने के लिए किया जाना चाहिए।  क्योंकि इस काम को करने से जो स्वच्छता हमें मिलेगी वह पैसों से नहीं ली जा सकती।

स्वच्छता एक पुण्य का काम है। इसलिए प्रत्येक मनुष्य को अपने जीवन में इसे जरूर अपनाना चाहिए। जो मनुष्य इसे नहीं अपनाते हैं वह बीमारियों से और बहुत बड़े रोगों से बहुत जल्द घिर जाते हैं।

और कुछ बीमारियां तो ऐसे होती हैं जो मनुष्य की जान तक ले लेती हैं तथा हर एक दूसरे व्यक्ति के सम्पर्क में आने से फैलती चली जाती है और फिर हो सकता है ये एक छोटी से बीमारी एक महामारी का रूप ले सकती है ।

इसलिए हमें स्वच्छता का अच्छे तरीके से ख्याल रखना चाहिए। और अस्वच्छता फैलाने वाले तत्वों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

पॉलीथिन का इस्तेमाल बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए। क्योंकि जिस पॉलिथीन का हम इस्तेमाल करके उसे फेंक देते हैं वह जल्दी से नष्ट नहीं होता है। अर्थात पॉलिथीन की उम्र बहुत ज्यादा वर्षों तक होती है।

इसे केवल जलाकर ही नष्ट किया जा सकता है परंतु अगर हम इसे जलाते हैं। तो इससे निकलने वाला विषैला धुंआ हमारे पर्यावरण को बहुत ज्यादा मात्रा में दूषित करता है। इसलिए

पॉलीथिन का इस्तेमाल बिल्कुल नहीं करना चाहिए तथा कहीं से भी सामान लाने के लिए कपड़ों से बने थैलों का इस्तेमाल करना चाहिए।

पॉलिथीन का एक और नुकसान भी होता है। हमारे आसपास के आवारा पशु जब इसे खा लेते हैं तो यह उनकी मौत का कारण भी बन जाती है। इसलिए

हमें पॉलीथिन का बिल्कुल भी इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। और भी बहुत सारे तत्व होते हैं जो स्वच्छता के लिए हानिकारक हैं उन सभी को अपने जीवन से निकाल फेंकना चाहिए। तथा

हमें जीवन में स्वच्छता के महत्व को समझकर दूसरों को भी जागरूक करना चाहिए। कोई एक व्यक्ति स्वच्छता नहीं ला सकता इसलिए हमें अपने आसपास के मित्रों पड़ोसियों तथा समाज में रहने वाले सभी मनुष्यों की मदद से अपने आसपास के सार्वजनिक स्थानों को साफ सुथरा रखना चाहिए।

एक स्वच्छ और स्वस्थ जीवन जीना चाहिए।

आशा करते हैं हमारे द्वारा प्रस्तुत किया गया स्वच्छता पर निबंध (शब्द सीमा 300 शब्द) आपके मन को भाया होगा।

अगर आपको स्वच्छता पर निबंध 300 शब्दों में अच्छा लगा तो इसे अपने अन्य दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें और हमें नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं कि 300 Shabd Ka Swachata Par Nibandh आपको कैसा लगा?

हमें आपकी टिप्पणी का इंतजार रहेगा। 😊

हम फिर मिलेंगे स्वच्छता पर निबंध के अगले आर्टिकल में जिसमें हम आपके लिए अलग-अलग शब्द सीमा के निबंध लेकर आएंगे।

चलिए, बहुत जल्द मुलाकात होगी हैं।


अलविदा।


😊आओ अन्य निबंध पढ़ें -:
💁Read: Swachata Par Nibandh 250 Shabad Hindi Mein

Comments

Popular posts from this blog

स्वच्छता पर निबंध- Swachhata Par Essay In Hindi

Swachata Par Nibandh Likha Hua Swachata Par Nibandh- स्वच्छता पर निबंध Hindi Mein Likha Hua | Swachhata Par Essay In Hindi:  आज हम पढ़ते हैं स्वच्छता के प्रति जागरूकता निबंध। इसमें हम आपको बताएंगे कि स्वच्छता की आवश्यकता पर निबंध क्यों जरूरी है तथा, स्वच्छता का महत्व निबंध कैसे लिखा जाता है। (Swachhata per nibandh) नमस्कार दोस्तों।  स्वच्छता पर निबंध - Swachhata Per Nibandh "Saaf Safai par Nibandh" आज में स्वच्छता का निबंध  आपके सामने पेश करना चाहूंगा। और इस निबंध को लिखने से पहले मैंने अपने कमरे को साफ सुथरा किया है। ताकि मैं जो निबंध आपके सामने पेश कर रहा हूं। उसके अंदर मेरे विचार भी साफ-सुथरे हो। तो आपसे गुजारिश है आपने इस निबंध को अच्छे तरीके से बिल्कुल अंत तक जरूर पढ़ना है। Swachata Essay in Hindi 80 Words स्वच्छता ही सेवा है, का अर्थ हम सभी समझते हैं परंतु इसे अपनाने की कोशिश बहुत कम लोग करते हैं। स्वच्छता के महत्व को जानते तो सभी हैं लेकिन इसे अपने जीवन में अपनाकर खुशहाल जीवन की ओर अग्रसर होने की कोशिश बहुत कम लोग करते हैं। एक स्वस्थ जीवन

Swachata Par Nibandh 80 Shabd Ka- स्वच्छता पर निबंध (शब्द सीमा- 80 शब्द)

Swachata Par Nibandh 80 Shabd Ka - स्वच्छता पर निबंध (शब्द सीमा- 80 शब्द) Swachata Par Nibandh 80 Shabd Ka- स्वच्छता पर निबंध (शब्द सीमा- 80 शब्द):  Today we read an essay on cleanliness awareness, in this we will tell you why the essay on the need for cleanliness is important and how the essay on the importance of cleanliness is written. आप सभी विद्यार्थियों को मेरा नमस्कार 🙏 आज मैं आपके सामने 'स्वच्छता पर निबंध' करने जा रहा हूँ। यह Swachata Par Nibandh 80 Shabd Ka हैं। मैंने और भी Swachata Par Nibandh लिखें हैं। जो अलग-अलग शब्द सीमा में हैं, उनको भी आप अवश्य पढ़ें। आइये! Swachata Par Nibandh 80 Shabd को पढ़ते हैं।😊 Swachata Par Nibandh 80 Shabd -  स्वच्छता पर निबंध (80 शब्द) अगर हमें एक अच्छा स्वास्थ्य चाहिए तो स्वच्छता हमारे लिए बहुत जरूरी है जिससे हमारे आस पास वातावरण शांत रहे गा । हमें केवल सरकार पर निर्भर नहीं रहना है, हमें खुद छोटे छोटे कदम उठाकर अपने आसपास के पर्यावरण को स्वच्छ बनाना चाहिए। अगर हम आज स्वच्छता के साथ समझौता करेंगे तो कल बहुत सारी ब

Swachata Par Nibandh 150 Words In Hindi- स्वच्छता पर निबंध 150 शब्द का

Swachata Par Nibandh 150 Words In Hindi- स्वच्छता पर निबंध 150 शब्द का Swachata Par Nibandh 150 Words In Hindi- स्वच्छता पर निबंध 150 शब्द का:  मानव जीवन के लिए स्वच्छता बहुत अहम भूमिका निभाती है अगर चारों तरफ का वातावरण स्वच्छ रहेगा तभी हम स्वस्थ रहेंगे अन्यथा हमें भी बहुत पर प्रकार की बीमारियां जकड़ लेंगी आप सभी विद्यार्थियों को मेरा  नमस्कार 🙏 आज हम पढ़ने वाले हैं 'स्वच्छता पर निबंध 150 शब्द का' आइये हम मिलकर  Swachata Par Nibandh 150 Words In Hindi को पढ़ते हैं।  Swachata Par Nibandh 150 Words In Hindi- स्वच्छता पर निबंध 150 शब्द का एक आदर्श जीवन शैली के लिए हमारे पास साफ सफाई से जुड़ी एक अच्छी आदत जरूर होनी चाहिए। जो हमारी स्वच्छता एवं हमारे पर्यावरण के लिए बहुत जरूरी है। हमारे प्रिय प्रधानमंत्री जी ने एक अभियान शुरू किया था जिसे 2 नामों से जाना जाता है। स्वच्छ भारत  या स्वच्छ  भारत अभियान  यह अभियान 2014 में हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा शुरू किया गया। स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत घरों, कॉलेजों, समुदायों, कार्यालयों आदि से शुरू होकर व्य